थ्रेशर को सुरक्षित कैसे रखें

फसलों की गहाई हेतु थ्रेशर काफी प्रचलित है। बहुफसलीय थ्रेशर का चुनाव कृषकों के लिये लाभकारी रहता है। इस थ्रेसर में छलनी, बीटर की गति, कनकेव एवं कनकेव की विलयरेस आदि में बदलाव कर विभिन्न फसलों की गहाई की जा सकती है। थ्रेसर के उपयोग के समय श्रम एवं फसलोपरांत नुकसान में कमी होती है। थ्रेशर के उपयोग आवश्यक है, अन्यथा दुर्घटना के कारण विकलांगता हो सकती है। निम्न बिन्दुओं को देखते हुये कृषक सुरक्षित ढंग से थ्रेसर का संचालन कर लाभान्वित हो सकते है।

थ्रेशर को सुरक्षित कैसे रखें – thresher ko kaise surkshit rakhe

1. थ्रेशर को सुरक्षित स्थानों पर स्थापित करना चाहिए अन्यथा संचालन के समय कम्पन्न हो सकता है।
2. थ्रेशर के पहिये जमीन में 15 से.मी. गड्ढे में बिठायें ताकि संचालन के समय कपंन न हो।
3. थ्रेसर की गति, फसल के अनुसार, उत्पादक द्वारा निर्धारित /अनुशंसिक रखें।
4. डीजल इंजन थ्रेशर से बेल्ट द्वारा ट्रांसमीशन व्यवस्था में जाली द्वारा सुरक्षित रखें।
5. विद्युत चालित थ्रेशर में तारों के जोडों पर प्लास्टिक टेप लगाकर रखें अन्यथा करंट द्वारा दुर्घटना हो सकती है। सर्किट स्टार्टर का उपयोग करें।
6. थ्रेशर से भूसा निकलने की दिशा हवा बहने की दिशा में हो।
7. बेल्टों में तनाव समुचित रहे। ढीली बेल्ट से शक्ति स्थानान्तरण में हा्रस होता है एवं बेल्ट स्लिप कर सकती है।
8. थ्रेसर चलाते समय ढीले-ढोले कपड़े न पहनें अन्यथा कपड़ा फसने का अंदेशा रहता है।
9. थ्रेशर में फसल देने हेतु परनाला लगभग 90 से.मी. हो तथा कम से कम 45 से.मी. ढका हो ताकि बीटर के खिचाव से हाथ के अन्दर न जा सके एवं दुर्घटना से सुरक्षा रहे। कुछ कृषक इसे निकालकर रख देते है ऐसा नहीं करें।
10. थ्रेसर चलाने से पूर्व सभी नट-बोल्ट कसे रहें अन्यथा कपंन अधिक होगा
11. थ्रेशर की बीयरिंग के समय-समय पर ग्रीस देते रहें।
12. थ्रेशर से गहाई करते समय मद्यपान न करें अन्यथा दुर्घटना की संभावना अधिक होती है।
13. थ्रेशर पर श्रमिकों से अधिक घंटे काम लेने पर थकान के कारण दुर्घटना की संभावना रहती है।
14. थ्रेशर से काम नहीं लेने के समय, मोटर खोल कर रख दें तथा छायादार शेड को रखें।
15. प्राथमिक उपचार बॉक्स साथ रखें। ताकि दुर्घटना ग्रस्त व्यक्ति की प्राथमिक चिकित्सा की जा सकें।
16. रात में थ्रेसर चलाते समय रोशनी की पर्याप्त व्यवस्था हो।
17. गीली तथा कच्ची फसल काटने पर सूखने पर ही गहाई करं अन्यथा गीली फसल शाफ्ट में फंस जाती है तथा रगड़ से मशीन में आग लग सकती है।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *