शुगरकेन प्लांट कटर क्या है और कैसे करें इसका इस्तेमाल!!

भारत में गन्ना एक प्रमुख फसल के रूप में जानी जाती है। गन्ने को नकदी फसल के रूप में भी जाना जाता है। क्योंकि इसके इस्तेमाल से गुड और चीनी को तैयार किया जाता है। गन्ना सेहत के साथ—साथ धन अर्जित करने का एक अच्छा माध्यम है। इस लेख में आप जानेंगे शुगरकेन प्लांट कटर के बारे में। जिसके बारे में आपको पता होना चाहिए। साथ ही शुगर केन प्लांटन कटर से कैसे काम किया जा सकता है। यही नहीं यह कृषि तकनीक का अहम हिस्सा भी है जो किसानों की मदद करने में अहम भूमिका निभाता है।

शुगरकेन प्लांटन कटर के फायदे और प्रयोग की विधि – Uses of sugarcane plant cutter Machine in Hindi

मिठाई के बीच गन्ना केवल एक नकदी फसल है जो 4.0 मिलियन हेक्. देश में गन्ने की खेती किया जाता। इनमें से लगभग पचास प्रतिशत इसका रोपाई फसल परंपरागत रूप हल के माध्यम से किया जाता है। बाकी 30-35 प्रतिशत शुगर केन प्लांटन कटर के माध्यम से करते है। इनमें विभिन्न तरह के पुर्जे सम्मिलित है जैसे-फुर्रो खोलने, फ्यूरो में उर्वरकों को देना, डब्ल्यूएस, बीज उपचार, गन्ना छोड़ना फुर्रो में सेट करना, कीटनाशक, मिट्टी का उपयोग, फ्यूरो में सेट करना तथा प्रत्येक मानव शक्ति का अनुपलब्धता। गन्ना उत्पादक योजना की तहत 90-92 प्रतिशत बसंत और गर्मी में इसका रोपण किया जाता है। जिससे अंकुरण और कलियों पर इसका प्रतिकूल प्रभान न पड़े। 4 मजदूरों की मदद से 1.50-2.0 हेक्टेयर संयंत्र में रोपण किया जाता है। जिससें मिट्टी को कोई नुकासन न हो है और नमी भी बनी रहती है। इसका कार्यान्वयन 35.0 एच के साथ संचालित पी ट्रैक्टर से किया जाता है। शुगर केन प्लांटन कटर से काम करने से उपज में शुद्ध लाभ होता है।
इसमें दो प्रकार के कटर प्लांटर्स और रेजर, डिस्क टी होते हैं।

कटर प्लेंटर का उपयोग अच्छी तरह से तैयार मिट्टी में किया जाता है। जबकि डिस्क कटर प्लेंटर यह गेहंू और रबी के फसल के तुरंत बाद इस्तेमाल किया जाता हैं। कटर प्लेंटन 50-60 प्रतिशत गन्ने की खेतों की रोपाई करता है। फ्यूरो सेट से उर्वरक और कीटनाशक के छिड़काव में प्रयोग करते है।

अगर ये जानकारी दोस्तों आपको अच्छी लगे तो जरूर दूसरे अन्य किसान भाईयों को भी इसे शेयर करें।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *