जानें जल तत्व वाली राशियों के लोगों का भविष्य

वैदिक शास्त्रों राशियों को भी अलग—अलग तरह से बांटा गया है। ज्योतिष शास्त्र में कुछ एैसी राशियां है जिनमें जल तत्व होता हैै। जी हां एैसी तीन राशियां हैं कर्क, वृश्चिक और मीन। इन राशियों के साथ चंद्रमा का संबंध बहुत गहरा होता है। और जल के स्वभाव की तरह होते हैं इन राशियों वाले लोग। क्या गुण और स्वभाव होता है जल तत्व वाली इन तीन राशियों का चलिए जानते हैं।

जल तत्व वाली राशियों के लोगों का भविष्य -Water Zodiac Signs according to Horoscope in Hindi

water-zodiac-sign-of-cancer

कर्क राशि का स्वभाव जल तत्व के अनुसार

इस राशि के लोगों को स्वभाव बहुत चंचल होता है। ये लोग तन व मन के सुंदर होते हैं। इनकी राशि का स्वामी खुद चन्द्रमा होता है।
अच्छे दिमाग के साथ—साथ इस तरह राशि के लोगों में कल्पना शक्ति भी अधिक होती है।
दया इनके मन में रहती है। लेकिन यही दया इनकी सबसे बड़ी समस्या भी होती है।
इस कारण से इनके जीवन में प्रेम और वैैवाहिक जीवन अच्छा नहीं चलता है।

उपाय

यदि आपकी राशि कर्क है तो जरूर मोती व ओपल को अपने हाथ या गले में धारण करें।
भगवान सदा शिव की पूजा नियमित करें।

water-zodiac-sign-of-scorpio

वृश्चिक राशि जल तत्व के अनुसार

अब बात है अगली जल तत्व वाली राशी की वो है वृश्चिक। जी हां इस राशि का चन्द्रमा नीच का होता है। और इसका स्वामी मंगल होता है। इस राशि के लोग में ​राजनीति, कला और शिक्षा आदि के प्रबल गुण होते हैं। अक्सर वृश्चिक राशि के लोग चिकित्सक भी होते हैं।
इन लोगों का वैवाहिक जीवन अच्छा रहता है।
इस प्रकार के लोगों सबसे बड़ी कमी यह रहती की ये किसी भी चीज का बदला लेने में पीछे नहीं हटते हैं। यही इनके जीवन की सबसे बड़ी कमी है। दूसरी कमी मां का प्यार ज्यादा नहीं ले पाते।

उपाय

यदि आपकी राशि वृश्चिक है तो जरूर माणिक अथवा मूंगा जरूर पहने।
भगवान शिव की पूजा व उपासना करें।

water-zodiac-sign-of-fish

तीसरी राशि जल तत्व की मीन

मीन राशि वाले लोग भी शिक्षा और कला के क्षेत्र में आगे रहते हैं। मीन राशि का स्वामी है भगवान बृहस्पति। और चंद्रमा भी ठीक रहता है इन राशि वाले लोगों का।
लेकिन इस राशि के लोगों का कम उम्र में भी भटक जाना एक बड़ी गंभीर समस्या रहती है। दूसरी समस्या इनको हर चीज अपने अनुसार करने की आदत रहती है।
यदि इन्हें सही दिशा दी जाए तो ये अपने क्षेत्र में दूसरों ज्यादा आगे बढ़ जाते हैं।

उपाय

नियमित भगवान शिव को जल चढ़ाएं।
पन्ना या फिर मोती को जरूर धारण करें।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *