कहां पर है हनुमानगढ़ी अयोध्या में..राम दर्शन क्यों अधूरा है इनके बिना

एक एैसा मंदिर जहां आप इस मंदिर के दर्शन बिना भगवान राम के दर्शन नहीं कर सकते। जी हां आपको सुनकर काफी अजीब सा लग रहा होगा कि एैसा कैसे हो सकता है भगवान राम के दर्शन से पहले कोई ओर मंदिर कैसे जरूरी हो सकता है।

अयोध्या जहां प्रभु श्री राम का जन्म हुआ था वहां की एक धार्मिक मान्यता है कि यहां पर आज भी भगवान राम विराजते हैं। लेकिन इस मंदिर को देखने से पहले आपके लिए जरूरी है हुनमान जी के इस मंदिर के दर्शन करना। यानी हनुमान गढ़ी।
पवन पुत्र और राम भक्त हनुमान जी का ये मंदिर इतना प्रभावशाली माना जाता है जिसे विशेष रूप से भगवान राम ने अपने भक्त हनुमान को उपहार के रूप में दिया था और कहा कि मेरे दर्शन तब तक पूरे नहीं हो सकते जब तक लोग तुम्हारे इस मंदिर में दर्शन नहीं करेगें।

सिद्धपीठ है हनुमानगढ़ी की विशेषता-facts about hanumangarhi in ayodhya in hindi

facts about hanumangarhi in ayodhya in hindi
मंदिर किस जगह पर है

आपको बता दें कि हनुमानगढ़ी, एक एैसा मंदिर है जो हनुमान जी के प्रमुख तीर्थ स्थलों में से एक है। ये मंदिर लखनऊ से मात्र एक सौ किलो​मिटर की दूरी पर स्थित सीतापुर जिले में है। इस मंदिर में हनुमान जी की लाल रंग की प्रतिमा स्थापित है। जो काफी प्रभावशाली है।

हनुमानगढ़ी में क्यों जाना जरूरी है

एैसा इसलिए है क्योंकि इसके पीछे एक धार्मिक मान्यता भी मानी गई है। लंका विजय के बाद भगवान राम ने अपने परम भक्त को रहने के लिए अयोध्या में एक विशेष स्थान दिया था और कहा भी था मेरे दर्शन तभी सफल होगें जब भक्त हनुमान गढ़ी में आकर पूजा व दर्शन करेगें।​

मंदिर की विशेषता क्या है

दोस्तों आपको इस मंदिर के बारे में बात दें कि इस मंदिर तक पहुंचने के लिए आपको
76 सीढ़ियों को चढ़ना होगा। क्योंकि ये मंदिर एक टीले पर स्थापित है। इसलिए इसे हनुमान गढ़ी कहा जाता है। इस जगह पर आपको फूल मालाओं से सज्जित हनुमान जी की प्रतिमा देखने को मिलेगी। यहां की दीवारों पर आपको हनुमान चालीसा और बजरंग बाण भी पढ़ने को मिलेगा।

क्या खासियत है इस मंदिर की

इस जगह पर हनुमान जी की जो प्रतिमा है वो दक्षिण मुखी है। और स्वयं हनुमान जी यहां पर विराजते हैं। इसलिए इस मंदिर में चोला चढ़ाने का विशेष महत्व है जो भी इंसान इस मंदिर के दर्शन करता है उसके जीवन से शनि, राहु के दोष और ग्रह दोष तो दूर होते ही हैं साथ ही इंसान जीवन में अन्न धन से भी संपन्न हो जाता है।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *